भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहाड़ अर देवता / हरीश हैरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लोग देवतावां नै
मनावण सारु
पहाड़ां माथै
जा चढ्या
देवता तो मानग्या
पहाड़ पण मान्या कोनी
पहाड़ा दाब मारया लोगां नै
देवता नेड़ै नी आया!