भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहिए जब लीक को काटते हैं / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बैल घुटनों पड़ जाते हैं
खुरों की नोकें मिट्टी में गड़ जाती हैं
जुए की मोटी रस्सियों का खिंचाव
गुस्सैल मुट्ठियों की तरह कसमसाने लगता है
जुआ गर्दन में गड़ता हुआ
टाँट की जड़ तक पहुँच जाता है
नथुनों की तेज़ हवा
धूल उड़ाने लगती है
सींग अनजाने क्षितिज की ओर
भाले की तरह तन जाते हैं
बैल की सारी फीठ समतल हो जाती है

कितना ज़ोर पड़ता है उस वक़्त
पहिए जब लीक को काटते हैं...