भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहिली गवन के मोला देहरी बैठाये / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पहिली गवन के मोला देहरी बैठाये
न रे सुआ हो छाँडि चले बनिजार
काकर संग खेलहूँ, काकर संग खाहूँ
काला राखों मन बांध, न रे सुआ हो
छाँडि चले बनिजार
खेलबे ननद संग सास संग खाबे
छोटका देवर मन बांध न रे सुआ हो
छाँडि चले बनिजार
पीवरा पात सन सासे डोकरिया
नन्द पठोहूँ ससुरार न रे सुआ हो
छोटका देवर मोर बेतवा सरीखे कइसे
राखों मन बांध न रे सुआ हो
छाँडि चले बनिजार ...
तोर अँगना म चौरा बंधा ले
कि तुलसा ल देबे लगाय
नित नित छुइबे नित नितं लीपबे
कि नित नित दियना जलाय
तुलसा के पेड़ ह हरियर हरियर
कि मोर नायक करथे बनिजार
जब मोर तुलसा के पेड़ झुर मुर जाही
कि मोर नायक गये रन जूझ न रे सुआ हो नायक