भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहिली भंवरि फिरि आयउं बाबा / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पहिली भंवरि फिरि आयउं बाबा
अबहूं तुम्हारी हौं हो
दूसरी भंवरि फिरि आयउं आजी बहूं
अबहूं तुम्हारी हौं हो
तिसरी भंवरि फिरि आयउं बाबू
अबहूं तुम्हारी हौं हो
चौथी भंवरि फिरि आयउं भइया
अबहूं तुम्हारी हौं हो
पंचई भंवरि फिरि आयउं काका
अबहूं तुम्हारी हौं हो
छठई भंवरि फिरि आयउं नाना अबहूं
अबहूं तुम्हारी हौं हो
सतई भंवरि फिरि आयउं माया
अब मैं भयउं पराई हौं हो।