भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहुँचे / साहिल परमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे दरिया का आब आसमाँ तलक पहुँचे,
मेरा ये दर्द तेरे जिस्मों जाँ तलक पहुँचे।

बदन था दूर जिगर की तो फ़िर क्या बात कहें,
बात ऐसी चली कि हम वहाँ तलक पहुँचे।

एक चुप्पी की तरह जी रहे थे सदियों से,
आज अल्फ़ाज बन के हम कहाँ तलक पहुँचे।

मूल गुजराती से अनुवाद : स्वयं साहिल परमार