भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पागल होती लडकियाँ / मोहिनी सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह लड़की जो हर बात पे हँस देती थी
एक दिन वो खुद से मिली और पहचान नहीं पाई।
और वह लड़की जो किसी के सामने रो नहीं सकती थी
एक दिन एक रुमाल खो जाने पे घंटो रोई।
एक और लड़की थी जो
प्रेम पर बहुत अच्छी कविताएँ करती थी
किसी को नहीं पता था
वो खयालो में हर रोज़ फांसी लगा लेती थी
और इसी तरह पागल होती रहीं हैं लड़कियाँ
समझदारी ने जब जब घूँघट उठाके देखा है उन्हें ।