भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाणी री कहाणी / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आंख्यां ओसरै
चौमासौ
रळी करतां
खिंवती बीजळ
बरसता बादळ
इन्दरधनख
सतरंगी सुपना
मन में मंडै
मन में दुड़ै
आभौ पळकै
कोरो आरसी
नी मंडै बादळ
धोरी भटकै
निरजळ इग्यारसी।

पाणीं री कहाणी
पीढ्यां जाणी
आंख्यां छोड़
कठै पाणी?