भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाणी / मोहन पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जुगां-जुगां सूं
हथेळियां री ओक बिचाळै
मिनख पी रियो है इमरत
अर मिटाय रियो है आपणी तिरस...।
सिरजण रा रूंख बोय नै
करै है संस्कृति रो बधापो...।
पण! लारलै कई दिनां सूं
पाणी सिर माथै गुजर रियो है
मानखो ईब पाणी री राड़ कर रियो है
अर पाणी बी...
हो रियो है त्यार
मानखां री भीड़ नै निगळबा खातर...।