भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाणी / राजूराम बिजारणियां

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पाणी!
फगत पाणी हुवै
न्है’र में बैंवतो
झरणै सूं हींडतो
दूर हुवै
भेद-अभेद सूं!
नाजोगो माणस!
कुण्ड
माटकी’र
लौटै रो
पीव’नै सीतळ पाणी
उकळतो-उफणतो
किंयां उतार देवै
छिणक में
मुळकतै मूंढां रो पाणी.!