भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

पानी का सारा गुस्सा जब पी जाता है बाँध / 'सज्जन' धर्मेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पानी का सारा गुस्सा जब पी जाता है बाँध।
दरिया को बाँहों में लेकर बतियाता है बाँध।

नदी चीर देती चट्टानों का सीना लेकिन,
बँध जाती जब दिल माटी का दिखलाता है बाँध।

पत्थर सा तन, मिट्टी सा दिल, मन हो पानी सा,
तब जनता के हित में कोई बन पाता है बाँध।

जन्म, बचपना, यौवन इसका देखा इसीलिए,
सपनों में अक्सर मुझसे मिलने आता है बाँध।

मरते दम तक साथ नदी का देता है तू भी,
तेरी मेरी मिट्टी का कोई नाता है बाँध।