भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पानी के बताशे / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गप्प-गप्प
हमने भी खाए
पानी के बताशे ।

गोल-गोल
कुरकुरे-चटपटे,
आलू-कचालू में
लटपटे,
जो न खाए,
पछताए ।
पानी के बताशे ।

जीभ कर रही थी
टूँ-टूँ बड़ी,
सी-सी करते रहे
घड़ी-घड़ी,
चटखोरे हम भी
कहलाए ।
पानी के बताशे ।

पेट में गया जब
मिर्ची-पानी,
याद आ गई सच
हमको नानी,
आँखों में
आँसू भर आए ।
पानी के बताशे ।