भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पानी भारेन जाऊसे वो मोरी मायू / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पानी भारेन जाऊसे वो मोरी मायू
घर का सासू घाघर रोके
भागी भागी से आई से जावा मारो बेटी
भागी भागी के आई जा
मैं कैसी आऊंसे वो मोरी मायू
रास्ता में मिले होय तो सोटी न मारे
रोटी पावन जाऊंसे वो मोरी मायू
घर का जिठानी चूला न रोके
भागी भागी से आई से जावा मारो बेटी
भागी भागी के आई जा

स्रोत व्यक्ति - शांतिलाल कासडे, ग्राम - छुरीखाल