भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पानी / अभिनंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पानी ही सें जीव छै, एकरै सें संसार
जे पानी छै प्राण रं, वही बहै बेकार ।

अमृत रं ई पानी के, जे नै समझै मोल
ऊ उत्सव में, पर्व में, एकदम फुट्टा ढोल ।

नै बूझै छै बात केॅ, इखनी उन्मत घोर
बुझतै पानी की छेकै, जखनी सुखतै ठोर ।

पानी चलले जाय छै, एकदम्मे पाताल
की होतै संसार के, वृक्ष-जीव के हाल ।

धन-दौलत के वास्तें, इखनी लड़ै छै लोग
लड़तै पानी वास्तें, ई भी लगतै रोग ।

सतयुग द्वापर ही रहेॅ या कलयुग के काल
पानी किनतै देवता, किन्नर-नर बेहाल ।

पानी पानी राखतै सब लोगोॅ के मान
ओकरोॅ काल नगीच छै, जे यै सें अनजान ।