भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पापा! घोड़ा बनो / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पापा! घोड़ा बनो
पापा! घोड़ा बनो

रूठा बैठा हूँ कब से
मनाओ मुझे,
न बहाने बनाकर
रुलाओ मुझे,
पापा! घोड़ा बनो
पापा! घोड़ा बनो

चलो, जल्दी पिठोली
चढ़ाओ मुझे,
पूरे कमरे का चक्कर
दिलाओ मुझे
पापा! घोड़ा बनो
पापा! घोड़ा बनो

हिनहिनाकर जरा-सा
दिखाओ मुझे,
रो चुका हूँ बहुत
अब हँसाओ मुझे,
पापा! घोड़ा बनो
पापा! घोड़ा बनो