भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पापा मेरी गुल्लक रख दो / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पापा मेरी गुल्लक रख दो कहीं छुपाकर।

ऐसी जगह किसी को जिसका पता चले न।
जान बचे बस मेरी, भैया सता सके न।
बिना बात ही फिर मुझको धमका-धमाकर।

अपने पैसे तो उसने कर दिए खर्च सब।
नजर गड़ाए है वह मेरी गुल्लक पर अब।
हार गई हूँ मैं उसको समझा-समझाकर।

मुश्किल से दस रुपये मैंने जोड़े होंगे।
किसे पता है, शायद ये भी थोड़े होंगे,
ब्याह रचूँगी गुड़िया का जब गुड्डा लाकर।