भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पापा / अंजू शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसके जन्म का कारण थे तुम,
पर रहे हमेशा परिणाम से बेखबर,
हर व्यस्त सड़क पर
ढूँढा नन्ही सी एक हथेली ने
तुम्हारी ऊँगली को,
उसकी ह़र उपलब्धि तलाशती रही
भीड़ में एक मुस्कुराता चेहरा,
पीठ पर एक खुरदरा पर स्नेहिल आशीष,
जीवन की घुमावदार पगडंडियों पर
जब भी पाया तुम्हारा साथ
सदा संकोच ने जकड लिए छोटे छोटे पांव,
फिर भी कल्पना की, माथे पर एक प्यार भरे चुम्बन
और एक आश्वासन से भरे स्पर्श की,
फिर भी तुम्हारी हर पीड़ा व्यथित करती है उसका मन
एक फ़ोन कॉल पर पिघलता है संबंधों के मध्य
पसरा हिमखंड,
और प्रेम के दो बोलों की बरसात
धो देती है जिन्दगी के कैनवास से
तमाम अनचाही यादें...पापा...