भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाया उसने ही सदा / त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पाया उसने ही सदा,जिसने किया प्रयास।
कभी हिरन जाता नहीं, सोते सिंह के पास॥
सोते सिंह के पास,राह तकते युग बीते।
बैठे -ठाले व्यक्ति, रहे हरदम ही रीते।
'ठकुरेला' कविराय, समय ने यह समझाया।
जिसने किया प्रयास, मधुर फल उसने पाया॥