भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाया नहीं वो जो खो रहा हूँ / शाहिद कबीर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पाया नहीं वो जो खो रहा हूँ
तक़्दीर को अपनी रो रहा हूँ

इस सोच में ज़िंदगी बिता दी
जागा हुआ हूँ कि सो रहा हूँ

फिर किस से उठेगा बोझ मेरा
इस फ़िक्र में ख़ुद को ढो रहा हूँ

काँटों को पिला के ख़ून अपना
राहों में गुलाब बो रहा हूँ

झरना हो नहीं हो या समुंदर
कूज़े में सब सुमो रहा हूँ

हर रंग गँवा चुका है पहचान
पानी में क़लम डुबो रहा हूँ

पत्थर के लिबास को मैं ‘शाहिद’
शीशे की सिलों पे धो रहा हूँ