भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पारा प्रेम का / सरोज सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

"पारा" प्रेम का, हाई हो न हो
"प्रेम" पारे सा होना चाहिए
जो गिरकर टूटता है कई टुकड़ों में
जुड़ने में पल नहीं गंवाता
कोई गांठ भी नहीं होती उस जुडाव में
और...उस "पारे"(प्रेम) को
कोई रंगे हाथों पकड़ भी तो नहीं पाता
तभी कहती हूँ...
पारा प्रेम का हाई हो न हो
प्रेम पारे सा होना चाहिए!