भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पालों से फहरे दिन फागुन के / श्याम नारायण मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

        सेमल की शाखों पर
        शत्‌-सहस्त्र कमल धरे,
        कोहरे से उबरे,
        दिन फागुन के ।

उबटन-सी लेप रही
आँगन में,
हल्दी-सी चढ़ी हुई
बागन में,

धूप गुनगुनी,
पत्तों को धार में
नचा रही,
अरहर के खेत में
बजा रही,
पवन झुनझुनी ।

        मड़वे पर बिरहा
        मेड़ों पर दोहरे,
        लगा रहे पहरे,
        दिन फागुन के ।

आँखों में उमड़े
हाट और मेले,
चाहेगा कौन
बैठना अकेले,
द्वार बंद कर ।

दिन गांजा-भंग पिए
रात पिए ताड़ी,
कौन चढ़े–हाँके
सपनों की गाड़ी,
नेह के नगर ।

        साँझ औ’ सवेरे
        नावों पै ठहरे,
        पालों से फहरे,
        दिन फागुन के ।