भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पिंजड़ा / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिंजड़ा मेॅ
खुबसूरत लागै छै सुग्गा।
डैनोॅ फैलावै छै,
मोड़ै छै, सिकौड़ै छै
आरो कखनूं
चोचोॅ सेॅ पिंजड़ा पकड़ी
लटकै छै झुलै छै।
आँखी के कोरोॅ सेॅ देखै छै-
केना बीतै छै एक-एक पल।
फड़फड़ाबै छै पंख
सही रहलोॅ छै दंश।