भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पियक्कड़ / मोनिका कुमार / ज़्बीग्न्येव हेर्बेर्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पियक्कड़ वे लोग होते हैं
जो एक ही घूँट में गिलास के पेंदे तक पी जाते हैं।
लेकिन तब वे घबरा जाते हैं
क्योंकि तल में उनको फिर से अपनी छवि दिखाई देती है।
बोतल के काँच में से उनको दूर-दराज के देश दिखाई देते हैं।
अगर उनके सिर ताक़तवार होते और उनका स्वाद बेहतर होता
तो वे खगोल विज्ञानी होते।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मोनिका कुमार