भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पींपळ / सतीश छींपा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काळ
छोड्यो कोनी कीं
किरसै कनै
हाड़ी अर सावणी
बगत सूं पैली ई सूकगी
पण साम्हीं
पींपळ पाणी सूं
सींचीजण लाग रैयो है।