भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पीपल का पेड़ / श्यामसुंदर श्रीवास्तव 'कोमल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे द्वारे बहुत पुराना,
पेड़ खड़ा है पीपल का।
मैं तो बैठ पढ़ा करता हूँ
इसकी शीतल छाँव में,
इसके जैसा पेड़ नहीं है
दूजा कोई गाँच में।
बाकी सबके सब छोटे हैं
बरगद हो या कटहल का।
पंचों की चौपाल सदा ही
लगती है इसके नीचे,
बैठ यहीं पर करते संध्या
बाबा आँखें को मीचे।
दादी रोज चढ़ाती इस पर
भरा हुआ लोटा जल का।
साँझ-सकारे इसमें आकर
पंछी शोर मचाते हैं,
चिहँक-चिहँककर फुदक-फुदककर
मीठा गीत सुनाते हैं।
तुम भी इसे देखने आना
पेड़ बड़ा है पीपल का।

-साभार: नंदन, अप्रैल 1996,30