भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पीलिया / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शहर को कुछ हो गया है
पीलिया-सा

आंँख में भी रंग है
उसका सजीला
यह नहीं कि
झूठ का है रंग पीला
रह रहा है सबमें वो ही
भेदिया-सा

आदतों से इक मशीनी
है क़वायद
आदमी से चेतना की
गंध गायब
चेहरे में है कोई
बहुरूपिया-सा

खोखले संवाद में हैं
शब्द केवल
हम खुशी के आंँसुओं में
पी रहे छल
खींचती है एक चुप्पी
 हाशिया-सा।