भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पीहू पुकारै पीहू पुकारै / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पीहू पुकारै पीहू पुकारै
आठज कमलिया आठज कमलिया
ओढ़अ लेजो न्याल्ही तोषक रे।।
अलोपी की करना अलोपी की करना
सब सजन मिल घेरऽ लेओ रे।।