भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पी लेने दो / अनिरुद्ध प्रसाद विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम रोको पर मैं न रुकूँगा
मैं तो मिलन में मस्त रहूँगा।
यह है मेरे मिलन की वेला,
चलने दो गोकुल की लीला।
मैं डूबा हूँ रास रंग में ;
कौन खींच ले जायेगा ?
वह हिलकोरे ले आती है
गीत प्रणय के सौ गाती है।
मेरे डूबे व्यथित हृदय को
व्यथा हीन वह कर जाती है।
मदमाता यौवन का प्याला
छोड़ कहाँ मैं जाऊँगा ?
री मृत्यु ठहर, मधु पीने दो
फिर साथ तुम्हारा दूँगा।