भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुरवैया के झोंके आये / रविन्द्र जैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुरवैया के झोंके आये
चन्दन बन की महक भी लाये
दूर वो निन्द्या रानी मुस्काये
मूँद लो नैना तो नैनों में आ जाये
पुरवैया के झोंके आये

नींद की दुल्हन बड़ी शर्मीली
उजियारे में न आये
कोई जो चौंके कोई कुछ बोले
तो रस्ते पे मुड़ जाये
दीप बुझा दो तो पल भर में आ जाये
मूँद लो नैना तो ...

नींद की चिन्ता ले के जो जागे
उसको नींद न आये
फूल सा मनवा ले के जो सोये
उसको ही नींद सुलाये
छोड़ दो चिन्ता तो पल भर में आ जाये
मूँद लो नैना तो ...