भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुरानी किताबों के नये जिल्द / अर्चना कुमारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यादों की गुल्लक
भरकर रीत रही
जैसे रहट हो कोई
उस पार रेत
इस पार दलदल
कहीं तो जाना होगा रास्तों को
कोई बुलाता होगा मंजिल को
हवाओं पर कान लगाए
आहटों का गीत सुनना
कितना शोर करता है समन्दर
दूर उठता है बवंडर
डूबते हैं घर शहर
मर गया है मन मेरा
फिर जिस्म में पैदा होगी
रुह नयी
लोग नये
ये किताबें एक जैसी
जिल्द होंगे बस नये...!!