भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुरानी पीर / भावना कुँअर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


पुरानी पीर
हर गई मन का
सारा ही धीर।
दौड़ती थी पहले
तेज़ कलम
रचती थी कितने
नूतन छंद
अब हो गई बंद।
उकेरती थी
कूँची कितने चित्र
एक से एक
लगते थे विचित्र।
अब तो बस
बिखेरती है रंग
अज़ब औ बेढंग।


</poem>