भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुर-कैफ़ बहारों ने भी दिल तोड़ दिया है / महेश चंद्र 'नक्श'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुर-कैफ़ बहारों ने भी दिल तोड़ दिया है
हाँ उन के नज़ारों ने भी दिल तोड़ दिया है

तूफ़ान को शेवा तो है कश्ती को डुबोना
ख़ामोश किनारों ने भी दिल तोड़ दिया है

इस डूबते सूरज से तो उम्मीद ही क्या थी
हँस हँस के सितारों ने भी दिल तोड़ दिया है

किस तरह करें तुझ से गिला मेरे सितम का
मद-होश इशारों ने भी दिल तोड़ दिया है

माना के थी ग़म-गीन कली ख़ौफ़-ए-ख़जाँ से
चुप रह के बहारों ने भी दिल तोड़ दिया है

अग़्यार का शिकवा नहीं इस अहद-ए-हवस में
इक उम्र के यारों ने भी दिल तोड़ दिया है

ये दौर-ए-मोहब्बत भी अबज दौर है इस में
ऐ ‘नक्श’ सहारों ने भी दिल तोड़ दिया है