भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुल पर आदमी / कुमार विकल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आदमी की अरक्षा की भावना का

मूल स्रोत कहाँ है?

इसके बारे में आपको कोई मनोवैज्ञानिक

या समाजशास्त्री बेहतर बता सकता है.


कवि तो केवल

एक अरक्षित आदमी का बिंब पेश कर करता है.


लेकिन जब उसकी कविताओं का मूल्यांकन

पुलिस करने लगती है

और वह महसूस करता है

कि उसकी कविताएँ

किताबें

और प्रियजनों के ख़त तक सुरक्षित नहीं.


और वह अपनी ताज़ा कविता या दिनचर्या में

किसी फूल का नाम नहीं ले सकता

किसी नदी में तैर नहीं सकता

किसी शराबी की आँखों में झाँक नहीं सकता.


क्योंकि फूल बारूदी दुर्गंध फैला सकते हैं

नदी गुरिल्ला बन सकती है

लैंप-पोस्ट के नीचे खड़ा शराबी

शहर का सबसे ख़तरनाक आदमी हो सकता है

तब

वह ज़रूर एक समाजशास्त्री के पास जाता है

और एक विश्वास लाता है

कि कविता आदमी का निजी मामला नहीं

एक-दूसरे तक पहुँचने के लिए एक पुल है.


अगर पुल पर चलता हुआ आदमी ही सुरक्षित नहीं

तो पुल बनाने की क्या ज़रूरत है


वक़्त आ गया है

कि वही आदमी पुल बनाएगा

जो पुल पर चलते आदमी की हिफ़ाज़त कर सकेगा.