भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुल / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात-भर
गुज़रती है दुनिया
इसके नीचे से
तीन सौ फिट लंबा
सात फिट चौड़ा
यह रेलवे पुल
शाम होते ही
उस भीखमंगे की
चारपाई बन जाता है ।

अगर ग़ालिब इसे
सोए हुए देखता तो
अपना शे'र बदल देता ।

सूर जो
देख पाता नहीं
मगर इस पर
ज़रूर कोई
नई बात कहता ।

यही पुल
होता अगर
कबीर के जमाने में
तो वह इसे
दुनिया की
सबसे बड़ी
खाट कहता ।

ई फक्कड़
इससे भी आगे कहता;
इस पुल पर
सोने को
जीवन का
सबसे बडा
ठाट कहता ।