भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुस्तकालय / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुस्तकालय में मिलीं हमको किताबें।

कुछ भरी थीं धूल में,
कुछ के कई पन्ने फटे थे।
और कुछ ऐसी थीं जिनके
हाल बिलकुल अटपटे थे।

एक के अंदर लिखा था-
‘नाम मेरा... पेज पर है।’
दूसरी में था लिखा-
‘पुस्तक निरी बकवास भर है।’

और कुछ ऐसी थीं जिनकी
शक्ल पर बारह बजे थे।
कुछ कलाकारों के रेखांकन
वहाँ उनमें सजे थे।

मूक थीं ये पुस्तकें सब
यातनाएँ सह रही थीं।
पर कहानी मनचले कुछ
पाठकों की कह रही थीं।