भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पूरब की ओर मुँह किए सूरजमुखी के फूल / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूरब की ओर मुँह किए सूरजमुखी के फूल ।
होते ही भोर खिल उठे सूरजमुखी के फूल ।

उड़ने लगीं हवाइयाँ चेहरे पे ओस के,
जब खिलखिला के हँस पड़े सूरजमुखी के फूल ।

तुम दिन की बात करते हो लेकिन मेरे लिए,
रातों के भी हैं हौसले सूरजमुखी के फूल ।

वो भी इन्हीं की याद में डूबा हुआ मिला,
जिसको पुकारते हैं ये सूरजमुखी के फूल ।

सूरज का साथ देने की हिम्मत लिए हुए,
धरती की गोद में पले सूरजमुखी के फूल ।

मुश्किल की तेज़ धूप का है सामना मगर,
जीते हैं सिर उठा के ये सूरजमुखी के फूल |

सूरज वो आसमान का मुझमें उतर पडा़,
इक बात ऐसी कह गए सूरजमुखी के फूल ।