भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पूरब के देश छोड़ो, उत्तर के देश चलो / छोटेलाल दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूरब के देश छोड़ो, उत्तर के देश चलो।
जहाँ बसै पियवा हमार, हे सखिया मोरी॥1॥
जहाँ नहिं पाप-पुन्न, जहाँ नहिं दुख-सुख।
जहाँ मिलै आनन्द अपार, हे सखिया मोरी॥2॥
जहाँ नहिं चन्द्र-भानु, जहाँ नहिं दिन-रात।
जहाँ नहिं देश अरु काल, हे सखिया मोरी॥3॥
जहाँ नहिं भूमि-जल, जहाँ नहिं तेज-वायु।
जहाँ नहिं नखत आकाश, हे सखिया मोरी॥4॥
विषय न इन्द्री कोई, चेतन न जड़ होई।
होइ जे बल के भंडार, हे सखिया मोरी॥5॥
परम सुन्दर अरु, परम चेतन अरु।
होइ जे सत्य के आगार, हे सखिया मोरी॥6॥
जहाँ नहिं बंध कोई, मरण न भव होई।
होइ जे एकरस ‘लाल’, हे सखिया मोरी॥7॥