भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पेच / सत्येन जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

डोर ओछी है क लांबी
किनकौ तौ कटणौ ई है
पेच ढील रा है क खंचरा
लोग तौ मांजौ लूटैलाई
पिछतावणौ कैड़ौ
पैच लडावतां लडावतां
मांजौ लूटतां लूटतां
एक दिन तौ कटणौ ई है
कणियां सूं