भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पेट के लिए / शरद कोकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दाने की खोज में
उड़ते हुए पंछियों के
थक जाते होंगे पंख
अन्न की तलाश में
भटकती हुई चींटियों के
थक जाते होंगे पाँव
चारा ढूँढ़ती मछलियाँ
तैरते-तैरते
थक जाती होंगी
थक जाते होंगे कीट-पतंगे
थक जाती होंगी छिपकलियाँ
थक ही जाता होगा
रोटी के जुगाड़ में
मुँह-अँधेरे निकला
रिक्शेवाला!!