भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पेट जे बांदर नची, डोराए सहकाए छॾियुमि / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पेट जे बांदर नची, डोराए सहकाए छॾियुमि।
हिन मिरूंअ खातिर कएं अरमान सहिसाए छॾियमि॥

साफ़ ज़ाहिर ही ठॻी पर ॿियो को रस्तो भी न हुओ।
बस अखियूं पूरे ॾिठी मखि चुपि में ॻिरकाए छॾियमि॥

कल्ह तरह अॼु भी सुभाँ जी आस सां दिल खे ठॻे।
उमिरि सां इएं ॿियो ख़ुशीअ जो ॾींहुं चंबुराए छॾियूमि॥

का घड़ी, दिल तां लही वेई हक़ीक़त जी तपति।
का घड़ी ख़्वाबनि जी घाटीअ छांव भरमाए छॾियमि॥

कंहिं रिथा सां काग़ज़नि तेकोका लफ़्जनि जा हणी।
हस्रतुनि जे मास जे टुकरनि खे अटिकाए छॾियुमि॥

मूंखे वर्से में मिलिया इतिहास खां जे घाव गम।
से अमानत जाँ संदमि पोयनि खे पहुचाए छॾियमि॥

दर्द हो बुनियाद मुंहिंजी ख़ुश मिज़ाजीअ जो कमल।
दिल जो हर ग़मु चर्चे जी सूरत में बदिलाए छॾियुमि॥