भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पेड़ / कुमार विकल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी यह पेड़ था कितना घना

देखो अब इसका क्या बना

समय की मार से

झर गए इसके पत्ते

तोड़ कर ले गए लोग

टहनियों के छत्ते

पीछे रह गया बस

एक सूखा तना.


कभी यह पेड़ था

कितना हरा

जैसे कोई कवि

गीत —कविताओं से भरा.