भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पेश-ओ-पस / फ़रहत एहसास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसके आगे सन्नाटा है
वो काला है
उसके पीछे इक चेहरा है
वो प्यारा है
वो अपनी पीठ पर अपनी आँखें बांधे जाता है
एक पाँव आगे की जानिब
दूसरा पीछे जाता है