भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पैकर-ए-नाज़ पे जब मौज-ए-हया चलती थी / हसन 'नईम'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पैकर-ए-नाज़ पे जब मौज-ए-हया चलती थी
क़र्या-ए-जाँ में मोहब्बत की हवा चलती थी

उन के कूचे से गुज़रता था उठाए हुए सर
जज़्बा-ए-इश्‍क़ के हम-राह अना चलती थी

इक ज़माना भी चला साथ तो आगे आगे
गर्द उड़ाती हुई इक मौज-ए-बला चलती थी

पर्दा-ए-फिक्र पे हर आन चमकते थे नुजूम
फ़र्श ता अर्श कोई माह-लक़ा चलती थी

मैं ही तन्हा न ख़राबों से गुज़रता था ‘नईम’
शाम ता सुब्ह सितारों की ज़िया चलती थी