भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पोखरन-3 / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

युग-पुरूषों की हँसी, युग-बोध से परे है
इनकी नपी तुली-हँसी में
पुरूषोचित अहं बोलता है
पृथ्वी - समुद्र - आकाश की मर्यादा का
इन्हें ज्ञान होता है
इसलिए ये शांति-वार्ता की शर्तें
भंग नहीं करते
ये पाताल-सुरंगो में हँसते हैं ।