भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्यारे! जरा तो मन में / भजन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अष्टक   ♦   आरतियाँ   ♦   चालीसा   ♦   भजन   ♦   प्रार्थनाएँ   ♦   श्लोक

प्यारे! जरा तो मनमें बिचारो; क्या साथ लाये अब ले चलोगे।
जावे यही साथ सदा पुकारो, गोविन्द! दामोदर! माधवेति॥१॥

नारी धरा-धाम सुपुत्र प्यारे, सन्मित्र सद्वाम्धव द्रव्य सारे।
कोई न साथी, हरिको पुकारो, गोविन्द! दामोदर! माधवेति॥२॥

नाता भला क्या जगसे हमारा, आये यहाँ क्यों? कर क्या रहे हैं।
सोचो बिचारो, हरिको पुकारो, गोविन्द! दामोदर! माधवेति॥३॥

सच्चे सखा हैं हरि ही हमारे, माता पिता स्वामि सुबन्दु प्यारे।
भूलो न भाई दिन-रात गावो, गोविन्द! दामोदर! माधवेति॥४॥