भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्यार का मौसम जहाँ को भा गया / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्यार का मौसम जहाँ को भा गया
कुछ दिलों को और भी तडपा गया
 
आई है कुछ देर से अबके बहार
फूल कब का शाख पर मुरझा गया
 
कारखानों से जो निकला था धुआं
शहर में बीमारियाँ फैला गया
 
एक नेता था वोह और करता भी क्या
मसले वो सुलझे हुवे उलझा गया

तब वो समझा लूटना इक जुर्म है
सेठ के हाथों से जब गल्ला गया
 
क्या हुआ ऐसा किसी ने क्या कहा
उनके माथे पे पसीना आ गया
 
था हसीं मौसम बहारों का 'सिया'
एक बिरहन को मगर तडपा गया