भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रदान / प्रेमराजेश्वरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन सकीनँ प्रियतम दान ।
अम्बरदेखी अवनिसम्मको राशि-राशि आकांक्षा
कुन्नी कसरि भरिन गो सानो उरमा यतिको इच्छा ?
फेरि समर्पण कता, कसरि अभिलाषा भए प्रदान ?
दिन सकीनँ प्रियतम दान ।

शरद्-निशामा रजत-ज्योत्स्ना खिलखिल हाँसिरहेको
नीलमको प्यालीमा प्रियतम अमृत छचल्किएको
पग्‌लिन थाले प्राणहरूका यी सारा अभिमान
अनी समर्पण कता, कसरि अभिलाषा भए प्रदान ?
दिन सकीनँ प्रियतम दान ।

साना क्षुद्र अकिञ्चन भए पनि लिइ निज उर-उच्छ्वास
कृष्ण-निशामा सबै ओच्याए तारक करूण प्रकाढ
थोपा-थोपा भई साधना आफैँ चुहे अजान
फेरि समर्पण कता, कसरि अभिलाषा भए प्रदान ?
दिन सकीनँ प्रियतम दान ।

रोयो धुरूधुरू नीरवता ओस अश्रु सुकुमार
आँखा खोलि उषाले हेरिन् थोपाको संसार
व्याप्त भए आफैँ समीरमा उरका व्याकुल गान
अनी समर्पण कता, कसरि अभिलाषा भए प्रदान ?
दिन सकीनँ प्रियतम दान ।