भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रभूअ जो राम नाम गुण ॻाइ / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रभूअ जो राम नाम गुण ॻाइ
मालिक जो राम नाम गुण ॻाइ

राम जे नाम में चितु लाईंदे
मालिक जे दर सुखु पाईंदे
कष्ट कटींदुई सतगुरु तुंहिंजा
मन खे ना भिटकाइ प्रभुअ जो...

चइनि ॾींहनि जो अथई मेलो
दुनिया दुरंगी झूठ झमेलो
सच जो सौदो कर को वेही
सच जो नाम कमाइ प्रभूअ जो...

उमिर विञायइ सारी कपट में
कूड़नि ॾेखनि ऐं भरमनि में
थी सुजाॻ ओ ग़ाफिल बंदा
संतनि जो संग पाइ
प्रभूअ जो राम नाम गुण ॻाइ...