भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रमाणपत्र / निशांत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिता जी पेंशन के लिए
जिंदा रहने का प्रमाणपत्र लेते रहे
जब तक जिंदा रहें

मैं जिंदा हूँ
इसे बतलाने के लिए
बार बार पॉकेट से निकालकर
दिखलाता हूँ अपना फोटो प्रमाणपत्र
सब मान लेते हैं-मैं जिंदा हूँ!
वहीँ हूँ, जो फोटो में हूँ!

रात के अकेले में
वह मेरे ऊपर शक करता है
मांगता है मुझ से
मेरे जिंदा होने का प्रमाणपत्र
मेरे मनुष्य होने का प्रमाणपत्र

वह कागज के टुकड़ों को नहीं मानता
मेरी नब्ज नहीं टटोलता
मेरा चेहरा भी नहीं देखता
वह हर रात सीधे मेरी आँखों में झाकता है और
हर रात मुझे मृत घोषित करता है।