भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रवल कलियुग / मुंशी रहमान खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कलियुग यहि संसार में प्रवल जानियो भूप।
हिंदू मुस्लिम कर दिए दोनहुँ एकै रूप।।
दोनहुँ एकै रूप मूँछ दाढ़ी मुड़़वाई।
कर दिए जाति कुजाति नहीं कोई चिन्‍ह दिखाई।।
कहैं रहमान धर्म नहिं त्‍यागैं धर्म धुरंधर कोइ युग।
सत्‍युग त्रेता द्वापर जीते जीत लिहैं कभी कलियुग।।