भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रश्नवेध / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं अपनी आँखें तुम्हें देता हूँ
तुम उसे दे दो
और उस से कहो
वह मेरी आँखों से तुझे देखे
और तब मैं उस की जबान से
तुम से पूँछूँ—
इस तरह रात भर वह जागता क्यों हैं?
क्या करता है वह?
अँधेरे की आँखों में
वह क्या पढ़ता रहता है?
सन्नाटे के होठों पर
आखिर वह क्या लिखता है?